IPO क्या है ।। Initial Public Offer in Hindi ।।

IPO क्या है ।। Initial Public Offer in Hindi ।।

एक आईपीओ Mandatory रूप से बड़ी कंपनियों द्वारा उपयोग की जाने वाली एक पैसा इकट्ठा करने वाला तरीका है, जिसमें कंपनी पहली बार Public को अपने शेयर बेचती है। ipo आईपीओ के बाद, कंपनी के शेयरों का स्टॉक एक्सचेंज (SEBI) में कारोबार होता है।।

 

IPO


ipo आईपीओ शुरू करने के लिए कुछ main motivations में शामिल हैं शेयरों की Sell से Money जुटाना, कंपनी के founders और शुरुआती निवेशकों को to provide liquidity और high rating का लाभ उठाना।।

 

IPO आईपीओ का क्या मतलब है?


first public offer


Ipo आईपीओ एक शुरुआती दौर मे जनता के बीच लेके आना मकशद है। एक आईपीओ में, एक निजी ownership वाली कंपनी अपने शेयरों को स्टॉक एक्सचेंज में लिस्ट्स करती है, जिससे उन्हें आम जनता द्वारा खरीद के लिए उपलब्ध कराया जाता है। बहुत से लोग आईपीओ IPO को बड़ा Money बनाने के अवसरों के रूप में सोचते हैं- हाई-प्रोफाइल कंपनियां जनता के बीच होने पर बड़े शेयर Value profit के साथ काफी चर्चा में रहती हैं।।

 

IPO कौन लांच करता हैं


सेबी द्वारा अनिवार्य


कंपनी के पास पिछले तीन वर्षों में प्रत्येक में कम से कम 3 करोड़ रुपये की tangible संपत्ति होनी चाहिए। ... कंपनी को पिछले 5 वर्षों में से उन्ही तीन वर्षों में से प्रत्येक में कम से कम पंद्रह करोड़ रुपये (Before tax) का औसत Operational लाभ होना चाहिए।।


Underwriter Or Investment Bank.
Registration For IPO.
Verification by SEBI.
Making An Application To The Stock Exchange.
Creating a Buzz By Roadshows.
Pricing of IPO.
Allotment of Shares

 

IPO कौन लांच कर सकता है।


सेबी द्वारा अनिवार्य आईपीओ आवेदन के लिए eligibility criteria


ipl


SEBI सेबी ने आईपीओ (IPO) जारी करने की मकसद किसी भी कंपनी के लिए कंपनी की profitability के आधार पर following criteria are mandatory कर दिए हैं। कंपनी के पास पिछले तीन सालो में हर एक साल में कम से कम 3 करोड़ रुपये की प्रॉफिट होनी चाहिए।।

 

IPO का Price कौन decide करता हैं।


IPO आईपीओ का लिस्टिंग प्राइस। Contractor या साझेदारी प्रक्रिया के माध्यम से आईपीओ करने वाले निवेश बैंकों के सिंडिकेट द्वारा तय किया जाता है।।


IPO लेन का करण ।


आईपीओ शुरू करने के लिए कुछ मुख्य Reasons में शामिल हैं शेयरों की बिक्री से Money जुटाना, कंपनी के founders और शुरुआती निवेशकों को सरलता और आसान करना, और founders ज्यादा पर शेयर पैसे का लाभ उठाना।।


IPO अच्छा हैं य बुरा।


कहना बहोत मुश्किल हैं की ipo अच्छा है या ipo बुरा लेकिन इतना अच्छा होता तो सारे लोग ipo में ही invest करते लेकिन ऐसा नही है, अगर ipo बुरा होता तो कोई इसमे कोई invest ही नही करता, ये आपके Research के ऊपर निर्भर करता हैं कि आपको इन्वेस्ट करना चाहिए या नही।।

Post Credit :-
Writer :- Ronnie Yadav
Chief Editor and Founder :- @ydvronnie
Website :- The Financial Hindi Blog www.Advancetaxpayment.com

 

एक टिप्पणी भेजें

और नया पुराने